बीमारी

मुंह से आ रही बदबू हो सकती है बीमारियों का संकेत, न करें नजरअंदाज

व्यक्ति के चेहरे की मुस्कुराहट ही उसके व्यक्तित्व को निखारती है और जिन लोगों की स्माइल सुंदर होती है उन्हें सभी लोग बहुत अच्छी नजरों से देखते है. वहीं अगर बात करते समय आपके मुंह से किसी को बदबू आ गई तो न केवल आपके दोस्तों को आपसे दूर कर देती है बल्कि आपको भी शर्मिंदा करती है. हम बात कर रहे है सांसों से आने वाली दुर्गंध के बारे जो न केवल आपकी सुंदरता को प्रभावित करती है बल्कि आपकी पर्सनालिटी के लिए भी अच्छी नहीं है.

जिन लोगों के मुंह से दुर्गंध आती है उनसे कोई भी शख्स बात करना पसंद नहीं करता और उनके साथ बैठा-उठना भी बंद कर देते है और यही शर्मिंदगी उनके आत्मसम्मान को बहुत ज्यादा ठेस पहुंचाती है और इस तरह के लोग सार्वजनिक स्थानों पर जाने से भी कतराने लगते है.

उन्हें बस इसी बात का डर बना रहता है की कही कोई उनका मजाक न उड़ाए जिन लोगो के मुंह से दुर्गंध आती है वे आम लोगों की हंसी का पात्र बन जाते है और ऐसे लोग अपनी समस्या किसी को बताने से भी कतराते है क्योंकि ज्यादातर लोग किसी की परेशानी को हल करने के बजाय उसका मजाक बनाना अधिक पसंद करते है और कुछ लोगो को तो अपनी इस स्मास्या के बारे में पता तक नहीं होता हैं. अगर आप जानना चाहते है कि क्या आपको भी ये समस्या है तो फिर अपने हाथ को मुंह के सामने लाए और ज़ोर से सांस छोड़े. फिर अपने हाथों को सूंघकर देखे यदि आपके हाथों से स्मेल आती है तो समझ लें की आप भी इस समस्या से पीड़ित है. लेकिन मुंह से आ रही बदबू सिर्फ शर्मिंगी की ओर इशारा नहीं करती बल्कि कई बिमारियों की ओर भी इशारा करती हैं.

  • फेफड़ों में जब संक्रमण होता है, तो जमा हुआ बलगम जब बाहर आता है. तब यह मुंह से बदबू आने का कारण बनता है. फेफड़ों में निमोनिया जीवाणु या वायरल का संक्रमण है. जब फेफड़े संक्रमित हो जाते हैं, तो वायु की थैली फूल जाती है. और यह कफ से भर जाती है, फिर मुंह से बदबू आने लगती है.
  • लिवर शरीर के लिए बहुत जरूरी अंग है, जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है. अगर लिवर सही से काम नहीं करता है, तो ब्लड स्ट्रीम में टॉक्सिन बन जाते हैं, जो मुंह में बदबू वाले बैक्टीरिया पैदा कर देते हैं.
  • डायबिटीज रोगी को शरीर में ग्लूकोज की कमी होने लगती है. जिससे उस व्यक्ति को सही मात्रा में एनर्जी नहीं मिल पाती है. जब शरीर को शुगर से एनर्जी प्राप्त नहीं हो पाती है, तो एनर्जी के लिए फैट बर्न करने लगती है. जब यह प्रक्रिया चलती है तो इसे कीटोन्स कहते हैं. कीटोन में एसिटोन होता है. यह वही तत्व है, जिसे नेल पॉलिश रिमूवर में इस्तेमाल करते हैं. अगर मुंह से नेल पॉलिश रिमूवर जैसी बदबू आती है, तो समझ लें कि वह डायबिटीज का रोगी है.
  • किडनी की बीमारी में रोगी के मुंह से बदबू आती है. किडनी, यूरिया को फिल्टर करती है, लेकिन जब ऐसा नहीं हो पाता है, तो मुंह से बदबू आने लगती है. ब्लड स्ट्रीम में यूरिया की मात्रा बढ़ने से मुंह में बदबू की समस्या पैदा होती है. किडनी की बीमारी की वजह से बॉडी में मेटाबॉलिक बदलाव आने लगते हैं. जिस कारण मुंह सूखने लगता है और बदबू का कारण बनता है.
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *